Artificial Intelligence (AI) या कृत्रिम बुद्धिमत्ता क्या है और कैसे काम करता है?

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) या कृत्रिम बुद्धिमत्ता के बारे में आपने जरूर सुना होगा। और आज कल तो हम सभी स्मार्टफोन्स में Google Maps और Google Assistant जैसे सॉफ्टवेयर के रूप में इसका इस्तेमाल भी कर रहे है।

इस पुरे ब्रह्मांड में मनुष्य ही एक ऐसा जीव है, जिसे ईश्वर ने दिमाग देने के साथ-साथ उसको सही तरीके से उपयोग करने की कुशलता भी प्रदान की है। मनुष्य अपनी बुद्धि और कुशलता से आज कहाँ से कहाँ पहुँच गया है।

अपने इस बुद्धि के बल पर इंसानो ने कंप्यूटर, इंटरनेट, स्मार्टफ़ोन आदि जैसे और भी कई सारे आविष्कार किये है। जिसकी वजह से हम मनुष्यो की जिंदगी को एक नई दिशा मिली है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) या कृत्रिम बुद्धिमत्ता

इसके बारे में लोगो को ज्यादा कुछ नहीं पता। इसीलिए आजके इस आर्टिकल में हम आपको AI यानी Artificial Intelligence से जुडी ख़ास जानकारी देने वाले है। जिसमे आपको AI क्या है, इसका इस्तेमाल कहाँ किया जाता है और इसके फायदे और नुक्सान क्या है? इन सभी के बारे में बताएँगे।

Artificial Intelligence का सामान्य अर्थ

टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में इंसान ने इतना विकास कर लिया है की अब उसी की तरह सोचने-समझने और अपने दिमाग का इस्तेमाल करने वाला एक चलता फिरता मशीन तैयार करने के बारे में सोच रहा है। जो बिलकुल इंसानो की तरह ही काम करने की क्षमता रख सकता है।

उस एडवांस टेक्नोलॉजी से बनने वाले मशीन को ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) कहा जाता है।

Artificial Intelligence क्या होता है?

Artificial Intelligence जिसे हिंदी में कृत्रिम बुद्धिमत्ता कहाँ जाता है। यहाँ कृत्रिम का मतलब है किसी के द्वारा बनाया हुआ और बुद्धिमत्ता का मतलब है Intelligence यानी सोचने की शक्ति।

AI कंप्यूटर विज्ञान की एक शाखा है जो एक ऐसी मशीन को विकसित कर रही है जो इंसान की तरह सोच सके और कार्य कर सके।

जब हम किसी कंप्यूटर को इस तरह तैयार करते है की वह मनुष्य की अक़्लमंदी की तरह कार्य कर सके। तो उसे Artificial Intelligence कहते है अर्थार्त जब हम किसी मशीन में इस तरह के प्रोग्राम सेट करते है की वह एक मनुष्य की भाति कार्य कर सके उसे Artificial Intelligence कहा जाता है।

ये जो Intelligence की ताक़त होती है ये हम मनुष्य के अंदर आपने आप बढ़ती है। कुछ देख कर, कुछ सुन कर, कुछ स्पर्श करके हम यह सोच सकते है की उस चीज़ के साथ कैसा व्यव्हार करना चाहिए।

ठीक उसी तरह से कंप्यूटर यंत्र के अंदर भी एक तरह का Intelligence डेवलॅप कराया जाता है। जिसके झरिये कंप्यूटर सिस्टम या रोबोटिक सिस्टम तैयार किया जाता है। जो उन्ही तर्कों के आधार पर चलता है, जिसके आधार पर मानव मस्तिष्क काम करता है।

कंप्यूटर साइंस के कुछ वैज्ञानिकोने AI की परिकल्पना दुनिया के सामने रखी थी। जिसमे उन्होंने बताया थी की AI कॉन्सेप्ट के द्वारा एक ऐसा कंप्यूटर कंट्रोल्ड मशीन या एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाने की योजना बनाई जा रही है। जो वैसा ही सोच सके जैसे इंसान का दिमाग सोचता है।

मानव सोच ने एनालाइज़ (विश्लेषण) करने और याद रखने का काम भी अपने दिमाग के जगह पर यंत्र-कंप्यूटर से कराना चाहता है। इसीलिए Artificial Intelligence की प्रगति पर जोर दिया जा रहा है।

AI & Machine Learning

कंप्यूटर साइंस में Artificial Intelligence को Machine Learning (मशीन लर्निंग) से भी जाना जाता है।

मशीन लर्निंग AI का एक हिस्सा है, यह सिस्टम को अपने अनुभव से अपने आप ही सिखने और खुद को इम्प्रूव (सुधारें) करने की क्षमता देता है। और इसमें प्राथमिक महत्व कंप्यूटर्स को खुदसे इंसान के बिना ही सिखने के लिए अनुमति देना होता है।

मशीन लर्निंग कंप्यूटर प्रोग्राम्स के डेवलपमेंट पर फोकस (केंद्रित) करता है। जो डेटा को एक्सेस कर सके और उसमे अपने आप सिख सके।

जिस तरह मनुष्य अपने अनुभव से अपनी क्षमता को बेहतर करते है, बिलकुल उसी तरह AI के प्रोग्राम्स भी है। जिसके झरिये मशीन्स भी सिखने का काम कर सकती है।

आज के समय में Artificial Intelligence और Machine Learning के लिए सबसे ज्यादा Python Programming Language (पाइथन) का उपयोग किया जा रहा है।

AI की शुरुआत किसने की?

जब मानवी कंप्यूटर सिस्टम की असली ताकत को खोज रहा था। तब मनुष्य के दिमाग ने उन्हें यह सोचने पर मजबूर किया की, ‘क्या एक मशीन भी मानवी की तरह सोच सकती है?’ इसी सवाल से AI के विकास की शुरुआत हुई।

जिसके पीछे केवल एक ही ध्येय था, की एक ऐसा बुद्धिमान मशीन का ढांचा तैयार किया जाए जो की इंसानों की तरह ही बुद्धिमान हो और उनके तरह ही सोचने समझने और सिखने की क्षमता रखता हो।

1955 में सबसे पहले John McCarthy ने Artificial Intelligence शब्द का इस्तेमाल किया था। वह एक अमेरिकन कंप्यूटर साइंटिस्ट थे, जिन्होंने सबसे पहले इस टेक्नोलॉजी के बारे में सन 1956 में एक कॉनफेरेन्स में बताया था।

इसलिए उन्हें Father of Artificial Intelligence (आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस के पिता) कहा जाता है। Artificial Intelligence कोई नया विषय नहीं है। कईं दशकों से दुनियाभर में इस पर चर्चा होती रही है।

The Matrix, Enthiran (Robot – हिंदी मूवी), Terminator और Blade Runner जैसी फिल्मों का आधार Artificial Intelligence का ही है। जहाँ रोबोट का स्वरूप दिखाया गया की कैसे वो इंसानो की तरह सोचता है और कार्य करता है।

Artificial Intelligence का उपयोग कहाँ किया जाता है?

Artificial Intelligence की लोकप्रियता बड़े ही जोरो-शोरों से बढ़ती चली जा रही है और आज यह एक ऐसा विषय बन गया है जिसकी टेक्नोलॉजी और बिज़नेस के क्षेत्रों में काफ़ी चर्चा हो रही है।

कईं विशेषज्ञों और इंडस्ट्री विश्लेषको का मानना है की AI और Machine Learning हमारा भविष्य है। लेकिन हम अगर हमारे चारों तरफ देखेंगे तो हमे पता चलेगा की यह हमारा भविष्य नहीं किन्तु वर्तमान है।

टेक्नोलॉजी के विकास के साथ आज हम किसी न किसी तरीके से AI से जुड़े हुए है। और इसका इस्तेमाल भी कर रहे है। हाल ही में कईं कंपनियों ने Machine Learning पर काफ़ी investment (निवेश) किया है। इसके कारण कईं AI प्रोडक्ट्स और ऍप्स हमारे लिए उपलब्ध हुए है।

तो चलिए आज हम आपको अभी के समय में उपलब्ध होने वाले कुछ AI के उदाहरण देते है।

1. Siri (iPhone)

आपने Apple Phone (iPhone) तो देखा ही होगा। इसकी सबसे लोकप्रिय पर्सनल असिस्टेंट “Siri” के बारे में भी जरूर सुना होगा। “Siri” AI का सबसे बेहतरीन उदाहरण है।

इससे आप वो सारी चीज़ें करवा सकते है जो आप इंटरनेट पे टाइप करके किया करते थे। जैसे मैसेज भेजना, इंटरनेट से इन्फॉर्मेशन ढूँढ़ना, कोई एप्लीकेशन ओपन करना, टाइमर सेट करना, अलार्म लगाना, आदि जैसे सभी काम आप मोबाइल को आप बिना हाथ लगाए आप “Siri” से ‘Hey Siri’ कहकर करवा सकते है।

“Siri” आपकी भाषा और सवालों को समझने के लिए Machine Learning टेक्नोलॉजी का उपयोग करती है। हालाँकि यह सिर्फ iPhone और iPad में ही उपलब्ध है, इसी तरह Amazon ‘Alexa’, Windows का ‘Cortana’, Android फोन की पर्सनल असिस्टेंट ‘Google Assistant’ है। जो की “Siri” की तरह काम करने के लिए उपयोग किए जाते है।

2. Google Maps

Google अपने कईं क्षेत्रों में AI का इस्तेमाल करता है लेकिन Google Maps में AI टेक्नोलॉजी का अच्छा इस्तेमाल हुआ है। Google Maps हमारी लोकेशन को ट्रैक करती है और हमे सही रास्ता बताने के लिए AI Enabled Mapping का भी इस्तेमाल करती है। और हमे सही रास्ता बताने में मदद करती है।

3. Amazon Alexa (Echo)

लोकप्रिय E-Commerce वेबसाइट Amazon ने भी एक ऐसा Revolutionary (क्रांतिकारी) प्रोडक्ट लॉन्च किया है जिसका नाम है, “Echo”. यह आपके सवालों के जवाब दे सकता है, आपके लिए ऑडियो बुक पढ़ सकता है, आपको ट्राफिक का हाल और weather रिपोर्ट बता सकता है, किसी भी स्पोर्ट का स्कोर और schedule (अनुसूची) भी बता सकता है।

4. Tesla

AI का इस्तेमाल सिर्फ स्मार्टफोन में ही नहीं बल्कि ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में भी इसका बहोत ज्यादा उपयोग किया जा रहा है। अगर आप कार पसंद करते है तो आपको ‘Tesla’ कार की जानकारी जरूर होगी। यह कार अबतक उपलब्ध सबसे बेहतरीन ऑटोमोबाइल्स में से एक है।

Tesla कार से जुड़ने के बाद इसमें सेल्फ ड्राइविंग जैसे फीचर्स उपलब्ध है। ऐसे ही न जाने कितनी सेल्फ ड्राइविंग कार और बन रही है, जो आने वाले वक्त में और स्मार्ट बन जाएगी।

5. Manufacturing Industries

AI का इस्तेमाल मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री में भी खूब जोरों से हो रहा है। पहले जिस काम को करने के लिए सेंकडो लोग लगते थे, वही आज मशीन की मदद से वही काम बहोत जल्दी और बेहतर किया जा रहा है।

6. Video Games

हमे वीडियो गेम्स में भी AI की झलक देखने को मिलती है। जैसे कईं सारी गेम्स में आपको कंप्यूटर से खेलना होता है, जैसे Chess और Ludo. इन सबके अलावा AI का इस्तेमाल स्पीच, recognition (मान्यता), कंप्यूटर विज़न, रोबोटिक्स, फाइनेंस, weather forecasting (मौसम की भविष्यवाणी) और हेल्थ इंडस्ट्री में भी होता है।

Artificial Intelligence के फ़ायदे

  1. AI एरर (Error) को कम करने में हमारी मदद करता है और अधिक एक्यूरेसी के साथ सटीकता हांसिल करने की संभावना बढ़ जाती है।
  2. AI का उपयोग करने से तेज़ी से निर्णय लेने में और जल्दी से कार्य करने में सहायता मिलती है।
  3. मनुष्यों के विपरीत मशीन्स को लगातार आराम और रिफ्रेशमेंट की आवश्यकता नहीं होती, वो लंबे समय तक काम करने के काबिल होते है, और ना तो वह विचलित होते है और नाहीं तो थकते है।
  4. AI की मदद से संचार, रक्षा, स्वास्थ्य, आपदा प्रबंधन और कृषि जैसे आदि क्षेत्रो में बड़ा बदलाव आ सकता है।

Artificial Intelligence के नुकसान

  1. Artificial Intelligence के लाभ अभी बहोत स्पष्ट नहीं है, लेकिन इसके खतरों को लेकर कहा जा सकता है की AI के आने से सबसे बड़ा नुकसान मनुष्य का ही होगा।
  2. AI मनुष्यों के स्थान पर काम करेंगी और मशीने स्वयं ही निर्णय लेने लगेगी। और उन पर नियंत्रण नहीं किया गया, तो इससे मनुष्य के लिए खतरा भी उत्पन्न हो सकता है।
  3. विशेषज्ञों का कहना है की सोचने-समझने वाले रोबोट अगर किसी कारण या परिस्तिथि में मनुष्यों को अगर अपना दुश्मन मानने लगे, तो मानवता के लिए खतरा पैदा हो सकता है।
  4. Artificial Intelligence के निर्माण के लिए भारी cost (क़ीमत) की आवश्यकता होती है, क्योंकि यह बहोत ही कॉम्प्लेक्स मशीन होती है। उनकी मरम्मत और रख-रखाव (Maintenance) के लिए भारी मात्रा में लागत (cost) की आवश्यकता होती है।
  5. इसमें कोई शक़ नहीं है की AI कईं सारी नौकरियों को मनुष्यो से छीन रही है, जिससे भविष्य में बेरोज़गारी की समस्या और भी बढ़ने वाली है।

Sundar Pichai Thoughts on Technology

Google के CEO ‘Sundar Pichai’ का कहना है की,

“मानवता के फायदे के लिए हमने आग और बिजली का इस्तेमाल तो करना सिख लिया पर इसके बुरे पहलुओं से उबरना जरुरी है”।

इसी प्रकार Artificial Intelligence भी ऐसी तकनीक है और इसका इस्तेमाल भी हम बहोत से क्षेत्रो में अपने फायदे के लिए कर रहे है। लेकिन सच यह भी है अगर इसके जोख़िम से बचने का तरीका नहीं ढूँढा तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते है। क्योंकि तमाम लाभों के बावजूद Artificial Intelligence के अपने ख़तरे है।

आज आपने क्या सीखा

Artificial Intelligence आने से हमे जो सुविधाएँ मिल रही है या आने वाले समय में इसका मनुष्य पर कैसे असर होने वाला है इसके बारे में अपनी राय और अभिप्राय हमे कमेंट में जरूर बतायें।

आशा है की आपको इस आर्टिकल से Artificial Intelligence क्या है?, इसका उपयोग कहाँ हो रहा है? और इसके क्या-क्या फायदे-नुक्सान है? इससे जुडी सारी जानकारी मिल गयी होंगी। शुक्रियां।

Default image
Dakshit Ranpariya
Hey there, Welcome to Hindiis. My name is Dakshit Ranpariya. I'm the Author & Founder of Hindiis. By the way, I’m a student of BCA Computer Science. Here, I blog about Technology, Make Money Online, Blogging, IPO News, SEO, Tutorials, Entertainment and Stock Market. For more information, Follow me on social media and stay connected with me.
Articles: 118

Leave a Reply